Jay Adhya Shakti Aarti Lyrics in Hindi/English – By Ratansinh Vaghela

This Bhajan “Jay Adhya Shakti Aarti Lyrics” is specially created for Navratri (9 Days of Hindu Godess). And many People sing this Bhajan of Adhya Shakti in Kirtan and Bhajan Sandhya.

In many occasions “Jay Adhya Shakti Aarti” is being sing or played and that’s why this Bhajan become so much popular.

Bhajan Credits

Jay Adhya Shakti Aarti BHAJAN CREDITS
SingerRatansinh Vaghela, Damyanti Barot
Music Manoj
Lyrics Ramesh patel
Label Ekta Sound

Jay Adhya Shakti Aarti Lyrics in Hindi

जय  आद्य शक्ति 
माँ  जय   आद्य  शक्ति 
अखंड  ब्रहमाण्ड   दिपाव्या
पनावे  प्रगत्य  माँ 
ॐ  जयो  जयो  माँ  जगदम्बे 
द्वितीया  मे स्वरूप  शिवशक्ति  जणु 
माँ शिवशक्ति जणु 
ब्रह्मा  गणपती  गाये 
ब्रह्मा  गणपती  गाये 
हर्दाई  हर माँ 
ॐ  जयो  जयो  माँ  जगदम्बे 
तृतीया त्रण स्वरूप त्रिभुवन माँ बैठा 
माँ त्रिभुवन माँ बैठा 
दया थकी  कर्वेली 
दया  थकी  कर्वेली 
उतरवेनी माँ 
ॐ  जयो  जयो  माँ  जगदम्बे 
चौथे  चतुरा  महालक्ष्मी  माँ 
सचराचल  व्याप्य 
माँ  सचराचल  व्याप्य 
चार  भुजा  चौ  दिशा 
चार  भुजा  चौ  दिशा 
प्रगत्य दक्षिण माँ 
ॐ  जयो  जयो  माँ  जगदम्बे 
पंचमे  पन्चरुशी  पंचमी  गुणसगणा 
माँ पंचमी  गुणसगणा 
पंचतत्व  त्या  सोहिये 
पंचतत्व  त्या  सोहिये 
पंचेतत्वे  माँ 
ॐ  जयो  जयो  माँ  जगदम्बे 
षष्ठी तू  नारायणी महिषासुर  मार्यो 
माँ महिषासुर मार्यो 
नर नारी ने रुपे 
नर नारी ने रुपे 
व्याप्य सर्वे माँ 
ॐ  जयो  जयो  माँ  जगदम्बे 
सप्तमी सप्त पाताळ संध्या सावित्री
माँ  संध्या सावित्री
गऊ गंगा गायत्री
गऊ गंगा गायत्री
गौरी गीता माँ
ॐ  जयो  जयो  माँ  जगदम्बे 
अष्टमी अष्ट भुजा आई आनन्दा  
माँ  आई आनन्दा
सुरिनर मुनिवर जनमा
सुरिनर मुनिवर जनमा
देव दैत्यो माँ
ॐ  जयो  जयो  माँ  जगदम्बे 
नवमी नवकुळ नाग सेवे नवदुर्गा 
माँ सेवे नवदुर्गा
नवरात्री ना पूजन
शिवरात्रि ना अर्चन
किधा हर ब्रह्मा 
ॐ  जयो  जयो  माँ  जगदम्बे 
दशमी दश अवतार जय विजयादशमी
माँ जय विजयादशमी
रामे रावण मार्या 
रामे रावण मार्या 
रावण मार्यो माँ
ॐ  जयो  जयो  माँ  जगदम्बे 
एकादशी अगियार तत्य निकामा 
माँ तत्य निकामा 
कालदुर्गा  कालिका 
कालदुर्गा  कालिका 
शामा ने रामा 
ॐ  जयो  जयो  माँ  जगदम्बे 
बारसे काला रूप बहुचरि अंबा माँ
माँ बहुचरि अंबा माँ
असुर भैरव सोहिये
काळ भैरव सोहिये
तारा छे तुज माँ
ॐ  जयो  जयो  माँ  जगदम्बे 
तेरसे तुलजा रूप तू तारुणिमाता 
माँ तू तारुणिमाता
ब्रह्मा विष्णु सदाशिव
ब्रह्मा विष्णु सदाशिव
गुण तारा गाता 
ॐ  जयो  जयो  माँ  जगदम्बे 
शिवभक्ति नि आरती जे कोई गाये
माँ जे कोई गाये
बणे शिवानन्द स्वामी
बणे शिवानन्द स्वामी
सुख सम्पति ध्यसे
हर कैलाशे जशे 
माँ अंबा दुःख हरशे 
ॐ  जयो  जयो  माँ  जगदम्बे
विश्वंभरी अखिल विश्व तनी जनेता
विद्या धरी वदनमा वसजो विधाता 
दुर्बुद्धिने दूर करी सदबुद्धि आपो 
माम पाहि ॐ भगवती भव दुःख कापो   
भूलो पड़ी भवरने भटकू भवानी
सूझे नहीं लगिर कोई दिशा जवानी 
भासे भयंकर वाली मन ना उतापो  
माम पाहि ॐ भगवती भव दुःख कापो   
आ रंकने उगरावा नथी कोई आरो
जन्मांड छू जननी हु ग्रही बाल तारो
ना शु सुनो भगवती शिशु ना विलापो
माम पाहि ॐ भगवती भव दुःख कापो   
माँ कर्म जन्मा कथनी करता विचारू 
आ स्रुष्टिमा तुज विना नथी कोई मारू 
कोने कहू कथन योग तनो बलापो
माम पाहि ॐ भगवती भव दुःख कापो   
हूँ काम क्रोध मद मोह थकी छकेलो 
आदम्बरे अति घनो मदथी बकेलो
दोषों थकी दूषित ना करी माफ़ पापो 
माम पाहि ॐ भगवती भव दुःख कापो   
ना शाश्त्रना श्रवण नु पयपान किधू 
ना मंत्र के स्तुति कथा नथी काई किधू
श्रद्धा धरी नथी करा तव नाम जापो
माम पाहि ॐ भगवती भव दुःख कापो   
रे रे भवानी बहु भूल थई छे मारी 
आ ज़िन्दगी थई मने अतिशे अकारि
दोषों प्रजाली सगला तवा छाप छापो
माम पाहि ॐ भगवती भव दुःख कापो   
खाली न कोई स्थल छे विण आप धारो
ब्रह्माण्डमा अणु अणु महि वास तारो
शक्तिन माप गणवा  अगणीत  मापों
माम पाहि ॐ भगवती भव दुःख कापो   
पापे प्रपंच करवा बधी वाते पुरो
खोटो खरो भगवती पण हूँ तमारो 
जद्यान्धकार दूर सदबुध्ही आपो 
माम पाहि ॐ भगवती भव दुःख कापो 
शीखे सुने रसिक चंदज एक चित्ते 
तेना थकी विविधः ताप तळेक चिते 
वाधे विशेष वली अंबा तना प्रतापो 
माम पाहि ॐ भगवती भव दुःख कापो   
श्री सदगुरु शरणमा रहीने भजु छू 
रात्री दिने भगवती तुजने भजु छू
सदभक्त सेवक तना परिताप छापो
माम पाहि ॐ भगवती भव दुःख कापो   
अंतर विशे अधिक उर्मी तता भवानी
गाऊँ स्तुति तव बले नमिने मृगानी 
संसारना सकळ रोग समूळ कापो
माम पाहि ॐ भगवती भव दुःख कापो   

Jay Adhya Shakti Aarti Lyrics in English

Jaya Aadya Shakti
Maa Jaya Aadya Shakti
Akhand Brahmaand Neepavya
Akhand Brahmaand Neepavya
Padave Pandit Ma
Om Jayo Jayo Ma Jagadambe

Dwitiya Bay Swarup
Shivashakti Janu
Maa Shivashakti Janu
Brahma Ganapti Gaye
Brahma Ganapti Gaye
Har Gaaye Har Ma
Om Jayo Jayo Ma Jagadambe

Tritiya Tran Swarup
Tribhuvan Ma Betha
Maa Tribhuvan Ma Betha
Traya Thaki Taraveni
Traya Thaki Taraveni
Tu Taraveni Ma
Om Jayo Jayo Ma Jagadambe

Chouthe Chatura Mahalaxmi
Maa Sachara Char Vyapya
Maa Sachara Char Vyapya
Char Bhuja Cho Disha
Char Bhuja Cho Disha
Pragtya Dakshin Ma
Om Jayo Jayo Ma Jagdambe

Panchame Panch Rushi
Panchami Gunapadma
Maa Panchami Gunapadma
Panch Sahashtra Tya Sohiye
Panch Sahashtra Tya Sohiye
Panche Tatvo Ma
Om Jayo Jayo Ma Jagdambe

Shashthi Tu Narayani
Mahishasura Maryo
Maa Mahishasura Maryo
Naranari Na Rupe
Naranari Na Rupe
Vyapaya Sagadhe Ma
Om Jayo Jayo Ma Jagdambe

Saptami Sapt Patal
Sandhya Savitri
Maa Sandhya Savitri
Gau Ganga Gayatri
Gau Ganga Gayatri
Gauri Geeta Ma
Om Jayo Jayo Ma Jagdambe

Ashthmi Ashtha Bhujao
Ayi Ananda
Maa Ayi Ananda
Sunivar Munivar Janamya
Sunivar Munivar Janamya
Dev Daityo Ma
Om Jayo Jayo Ma Jagdambe

Navmi Navkul Naag
Seve Navadurga
Maa Seve Navadurga
Navratri Na Pujan
Shivratri Na Archan
Kidha Har Brahma
Om Jayo Jayo Ma Jagdambe

Dashami Dash Avtaar
Jay Vijyadashami
Maa Jay Vijyadashami
Rame Ram Ramadya
Rame Ram Ramadya
Ravan Roodyo Ma
Om Jayo Jayo Ma Jagdambe

Ekadashi Agyarus
Kaatyayani Kaama
Maa Kaatyayani Kaama
Kaam Durga Kalika
Kaam Durga Kalika
Shyama Ne Rama
Om Jayo Jayo Ma Jagdambe

Barase Bala Roop
Bahuchari Amba Maa
Maa Bahuchari Amba Maa
Batuk Bhairav Sohiye
Kal Bhairav Sohiye
Taara Chhe Tuja Maa
Om Jayo Jayo Ma Jagdambe

Terase Tulja Roop
Tume Taruni Mata
Maa Tume Taruni Mata
Brahma Vishnu Sadashiv
Brahma Vishnu Sadashiv
Gun Tara Gaata
Om Jayo Jayo Ma Jagdambe

Choudse Choda Roop
Chande Chamunda
Maa Chande Chamunda
Bhaav Bhakti Kayi Apo
Chaturai Kayi Apo
Singh Vahini Mata
Om Jayo Jayo Ma Jagdambe

Puname Kumbha Bharyo
Shambhaljo Karuna
Maa Shambhaljo Karuna
Vashist Deve Vakhania
Markand Deve Vakhania
Gayi Subh Kavita
Om Jayo Jayo Ma Jagdambe

Sauvanta Sole Sattaavana
Saulashe Baavisha Maa,
Maa Saulashe Baavisha Maa,
Sauvanta Sole Pragatyaan,
Sauvanta Sole Pragatyaan,
Revaa Ne Tire,
Har Ganga Ne Tire
Om Jayo Jayo Maa Jagadambe

Trambaavati Nagari
Aaye Roopaavati Nagari,
Maa Manchaavati Nagari,
Sola Sahastra Traan Sohiye,
Sola Sahastra Traan Sohiye,
Kshamaa Karo Gauri,
Maa Dayaa Karo Gauri,
Om Jayo Jayo Maa Jagadambe

Shivashakti Ni Aarti
Je Koyee Gaashe,
Maa Je Bhaave Gaashe,
Bhane Shivaananda Swaami
Bhane Shivaananda Swaami
Sukha Sampati Thaasshey
Maa Kailaashe Jaashe
Maa Ambaa Dukha Harashe
Om Jayo Jayo Maa Jagadambe

Ekama Eka Swaroop,
Antara Nava Darasho,
Maa Antara Nava Darasho,
Bholaa Bhoodar Ba Bhajataa,
Maa Ambaa Ne Bhaajata,
Bhavaa Saagar Tarasho,
Om Jayo Jayo Maa Jagadambe

Bhava Na Jaanoo,
Bhakti Na Jaanoo,
Nava Jaanu Sevaa,
Maa Nava Jaanu Sevaa,
Vallabha Bhatta Ne Aapi,
Sarva Jane Ne Aapi,
Maa Charno Mi Sevaa,
Om Jayo Jayo Maa Jagadambe

Tagged : / / / /

Shiv Amritvani Lyrics in Hindi/English – By Anuradha Paudwal

This Bhajan i.e. Shiv Amritwani Lyrics is a Bhajan which is dedicated to Lord Shiva, and in the whole bhajan tells about Lord Shiva, as he is one of the God in Trimurti.

In the whole Bhajan of Shiv Amritwani, Anuradha Paudwal has given her best Performance to compose this Bhajan.

Bhajan Credits:

Shiv Amritwani Credits
Label/CompanyT-Series
SingerAnuradha Paudwal
LyricistTraditional
Album NameShiv Amritwani

About Anuradha Paudwal:

Anuradha Paudwal (born 27 October 1954) is an Indian playback singer who works in Bollywood and the Marathi cinema.

She was awarded the Padma Shri, India’s fourth-highest civilian award, by the Government of India in 2017.

Shiv Amritvani Lyrics in English

Dukh nashak sanjeevani, Nav durga ka paath
Jisase banta bhikshuk bhi, Duniya ka samrat
Amba divya swarupani, Kaye so prakash
Prithvi jisase jyotirmay, Ujawal hai aakash
Durga param sanatani, Jag ke sirjan haar
Aadi bhawaani maha devi, Shristi ka aadhaar
Jai jai durge maa…
Sadd marg pradarshini, Nyan ka ye updesh
Man se karta jo manan, Usake kate kalesh
Jo bhi vipatti kaal mein, Kare ri durga jaap
Puran ho man kamna, Bhage dukh santap
Utpan karta vishv ki, Shakti aprampar
Iska archan jo kare, Bhav se utre paar
Durga sok vinashini, Mamta ka hai roop
Sati satvi satvanti, Sukh ke kala anup
Jai jai durge maa…
Vishnu brahma rudra bhi, Durga ke hai adheen
Buddhi vidya vardhani, Sarva siddhi praveen
Lakh chaurasi yoniyan, Se ye mukti de
Maha maya jagdambike, Jab bhi dayaa kare
Durga durgati nashini, Shiv vahini shukhkar
Ved mata ye gayatri, Sabke palanhar
Sada surakshit wo jan hai, Jis par maa ka haath
Vikat dagariya pe usaki, Kabhi na bigde baat
Jai jai durge maa…
Maha gauri vardayini, Maiya dukh nidaar
Shiv duti bramhachaarini, karti jag kalyan
Sankat harni bhagwati, Ki tu mala pher
Chinta sakal mitayegi, Ghadi lage na der
Paras charnan durga ke, Jhuk jhuk matha tek
Sona lohe ko kare, Adbhut kautak dek
Bhavtarak parmeshwari, Leen kare anant
isake vandan bhajan se, Paapo ka ho ant
Jai jai durge maa
Durga maa dukh harne waali, Mangal mangal
karne wali
Bhay ke sarp ko marne wali, Bhav needhi se jag
taarne wali
Atyachar pakhand ki damni, Ved purano ki ye
janani
Daitya hi abhiman ke mare, Deen heen ke kaaj
sanwaare
Sarv kalaon ki ye malik, Sarnagat dhan heen ki
palak
Ichchhit var pradan hai karti, Har mushkil
aasan hai karti
Dhyamari ho har bhram mitave, kan kan bhitar
kala dikhave
Kare asambhav ko ye sambhav, Dhan dhanya or
deti vaibhav
Maha siddhi maha yogini mata, Mahisa sur ki
mardini mata
Puri kare har man ki asha, Jag hai iska khel
tamasha
Jai durga jai jai damyanti, Jeevan dayini ye hi
jayanti
Ye hi savitri ye koukari, Maha vidya ye karo
upkari
Siddh manorath sabke karti, Bhakt jano ke
sankat harti
Vish ko amrit karti pal mein, Yehi tairati patthar
jal mein
Iski karuna jab hai hoti, Maati ka kan banta
moti
Patjhad mein ye phool khilaave, Andhiyare mein
jyot jalaave.
Vedon mein varnit mahima iski, Aisi sobha or
hai kisaki
Ye narayani ye hi jwaala, Japiye iske naam ki
mala
Ye hi hai sukeshwari mata, Iska vandan kare
vidhaata
Pag pankaj ki dhuli chandan, Iska dev kare
abhinandan
Jagdamba jagdiswari, Durga dayaa nidhaan
Iski karuna se bane, Nirdhan bhi dhanwaan
Chhin masta jab rang dikhaave, Bhagyheen ke
bhagya jagaave
Siddhi daati aadi bhawaani, Isko sewat hai
brahm gyaani.
Shail sutama sahkti saala, Iska har ek khel
niraala
Jis par hove anugrah iska, Kabhi amangal ho na
uska
Iski dayaa ke pankh lagaa kar, Ambar chhute
hain kayi chaakar
Rayi ye hi parwat karti, Gaagar mein hai saagar
bharti
Iske kabze jag ka sab hai, Shakti ke bin shiv bhi
sav hai
Shakti hi hain shiv ki maya, Shakti ne bramhand
rachaaya
Is sakti ka sadhak banana, Nisthawan upasak
banna
Pushpanda bhi naam hai isaka, Kan kan mein
hai ghaam isaka
Durga maa prakaas swaroopa, Jap tap gyaan
tapasya roopa
Man mein jyot jala lo isaki, Saachi lagan lagaa lo
iski
Kaal raatri ye maha maya, Shridhar ke sir iski
chhaya
Iski mamta pawan jhula, Jisko dhyanu bhakt na
bhula
Iska chintan chinta harta, Bhakto ke bhandar
hai bharta
Sanson ka sur mandal chhedo, Nav durga se
muh na modo
Chandra ghanta katyayani, Maha dayalu maa
shiwani
Iski bhakti kasht niware, Bhav sindhu se paar
utaare
Agmanant agochar maiya, Sheetal madhukar
iski chhaiya
Shristi ka hai mul bhawaani, Ise kabhi na bhulo
praani
Durga maa prakas swaroopa, Jap tap gyan
tapsya roopa
Man mein jyot jala lo isaki, Sachi lagan lagaa lo
isaki
Durga ki kar sadhana, man mein rakh vishwash
Jo magoge paoge, kya nahi maa ke paas…

Shiv Amritvani Lyrics in Hindi

Part- 1
कल्पतरु पुन्यातामा, प्रेम सुधा शिव नाम
हितकारक संजीवनी, शिव चिंतन अविराम
पतिक पावन जैसे मधुर, शिव रसन के घोलक
भक्ति के हंसा ही चुगे, मोती ये अनमोल
जैसे तनिक सुहागा, सोने को चमकाए
शिव सुमिरन से आत्मा, अध्भुत निखरी जाये
जैसे चन्दन वृक्ष को, दस्ते नहीं है नाग
शिव भक्तो के चोले को, कभी लगे न दाग

ॐ नमः शिवाय, ॐ नमः शिवाय!!

दया निधि भूतेश्वर, शिव है चतुर सुजान
कण कण भीतर है, बसे नील कंठ भगवान
चंद्र चूड के त्रिनेत्र, उमा पति विश्वास
शरणागत के ये सदा, काटे सकल क्लेश
शिव द्वारे प्रपंच का, चल नहीं सकता खेल
आग और पानी का, जैसे होता नहीं है मेल
भय भंजन नटराज है, डमरू वाले नाथ
शिव का वंधन जो करे, शिव है उनके साथ

ॐ नमः शिवाय, ॐ नमः शिवाय!!

लाखो अश्वमेध हो, सोउ गंगा स्नान
इनसे उत्तम है कही, शिव चरणों का ध्यान
अलख निरंजन नाद से, उपजे आत्मा ज्ञान
भटके को रास्ता मिले, मुश्किल हो आसान
अमर गुणों की खान है, चित शुद्धि शिव जाप
सत्संगती में बैठ कर, करलो पश्चाताप
लिंगेश्वर के मनन से, सिद्ध हो जाते काज
नमः शिवाय रटता जा, शिव रखेंगे लाज

ॐ नमः शिवाय ॐ नमः शिवाय!!

शिव चरणों को छूने से, तन मन पवन होये
शिव के रूप अनूप की, समता करे न कोई
महा बलि महा देव है, महा प्रभु महा काल
असुराणखण्डन भक्त की, पीड़ा हरे तत्काल
शर्वा व्यापी शिव भोला, धर्म रूप सुख काज
अमर अनंता भगवंता, जग के पालन हार
शिव करता संसार के, शिव सृष्टि के मूल
रोम रोम शिव रमने दो, शिव न जईओ भूल

ॐ नमः शिवाय, ॐ नमः शिवाय!!

Part – 2 & 3

शिव अमृत की पावन धारा, धो देती हर कष्ट हमारा
शिव का काज सदा सुखदायी, शिव के बिन है कौन सहायी
शिव की निसदिन की जो भक्ति, देंगे शिव हर भय से मुक्ति
माथे धरो शिव नाम की धुली, टूट जायेगी यम कि सूली
शिव का साधक दुःख ना माने, शिव को हरपल सम्मुख जाने
सौंप दी जिसने शिव को डोर, लूटे ना उसको पांचो चोर
शिव सागर में जो जन डूबे, संकट से वो हंस के जूझे
शिव है जिनके संगी साथी, उन्हें ना विपदा कभी सताती
शिव भक्तन का पकडे हाथ, शिव संतन के सदा ही साथ
शिव ने है बृह्माण्ड रचाया, तीनो लोक है शिव कि माया
जिन पे शिव की करुणा होती, वो कंकड़ बन जाते मोती
शिव संग तान प्रेम की जोड़ो, शिव के चरण कभी ना छोडो
शिव में मनवा मन को रंग ले, शिव मस्तक की रेखा बदले
शिव हर जन की नस-नस जाने, बुरा भला वो सब पहचाने
अजर अमर है शिव अविनाशी, शिव पूजन से कटे चौरासी
यहाँ वहाँ शिव सर्व व्यापक, शिव की दया के बनिये याचक
शिव को दीजो सच्ची निष्ठां, होने न देना शिव को रुष्टा
शिव है श्रद्धा के ही भूखे, भोग लगे चाहे रूखे-सूखे
भावना शिव को बस में करती, प्रीत से ही तो प्रीत है बढ़ती।
शिव कहते है मन से जागो, प्रेम करो अभिमान त्यागो।

दोहा
दुनिया का मोह त्याग के शिव में रहिये लीन।
सुख-दुःख हानि-लाभ तो शिव के ही है अधीन।।

भस्म रमैया पार्वती वल्ल्भ, शिव फलदायक शिव है दुर्लभ
महा कौतुकी है शिव शंकर, त्रिशूल धारी शिव अभयंकर
शिव की रचना धरती अम्बर, देवो के स्वामी शिव है दिगंबर
काल दहन शिव रूण्डन पोषित, होने न देते धर्म को दूषित
दुर्गापति शिव गिरिजानाथ, देते है सुखों की प्रभात
सृष्टिकर्ता त्रिपुरधारी, शिव की महिमा कही ना जाती
दिव्या तेज के रवि है शंकर, पूजे हम सब तभी है शंकर
शिव सम और कोई और न दानी, शिव की भक्ति है कल्याणी
कहते मुनिवर गुणी स्थानी, शिव की बातें शिव ही जाने
भक्तों का है शिव प्रिय हलाहल, नेकी का रस बाटँते हर पल
सबके मनोरथ सिद्ध कर देते, सबकी चिंता शिव हर लेते
बम भोला अवधूत सवरूपा, शिव दर्शन है अति अनुपा
अनुकम्पा का शिव है झरना, हरने वाले सबकी तृष्णा
भूतो के अधिपति है शंकर, निर्मल मन शुभ मति है शंकर
काम के शत्रु विष के नाशक, शिव महायोगी भय विनाशक
रूद्र रूप शिव महा तेजस्वी, शिव के जैसा कौन तपस्वी
हिमगिरी पर्वत शिव का डेरा, शिव सम्मुख न टिके अंधेरा
लाखों सूरज की शिव ज्योति, शस्त्रों में शिव उपमान होशी
शिव है जग के सृजन हारे, बंधु सखा शिव इष्ट हमारे
गौ ब्राह्मण के वे हितकारी, कोई न शिव सा पर उपकारी

दोहा
शिव करुणा के स्रोत है शिव से करियो प्रीत।
शिव ही परम पुनीत है शिव साचे मन मीत।।

शिव सर्पो के भूषणधारी, पाप के भक्षण शिव त्रिपुरारी
जटाजूट शिव चंद्रशेखर, विश्व के रक्षक कला कलेश्वर
शिव की वंदना करने वाला, धन वैभव पा जाये निराला
कष्ट निवारक शिव की पूजा, शिव सा दयालु और ना दूजा
पंचमुखी जब रूप दिखावे, दानव दल में भय छा जावे
डम-डम डमरू जब भी बोले, चोर निशाचर का मन डोले
घोट घाट जब भंग चढ़ावे, क्या है लीला समझ ना आवे
शिव है योगी शिव सन्यासी, शिव ही है कैलास के वासी
शिव का दास सदा निर्भीक, शिव के धाम बड़े रमणीक
शिव भृकुटि से भैरव जन्मे, शिव की मूरत राखो मन में
शिव का अर्चन मंगलकारी, मुक्ति साधन भव भयहारी
भक्त वत्सल दीन द्याला, ज्ञान सुधा है शिव कृपाला
शिव नाम की नौका है न्यारी, जिसने सबकी चिंता टारी
जीवन सिंधु सहज जो तरना, शिव का हरपल नाम सुमिरना
तारकासुर को मारने वाले, शिव है भक्तो के रखवाले
शिव की लीला के गुण गाना, शिव को भूल के ना बिसराना
अन्धकासुर से देव बचाये, शिव ने अद्भुत खेल दिखाये
शिव चरणो से लिपटे रहिये, मुख से शिव शिव जय शिव कहिये
भस्मासुर को वर दे डाला, शिव है कैसा भोला भाला
शिव तीर्थो का दर्शन कीजो, मन चाहे वर शिव से लीजो

दोहा
शिव शंकर के जाप से मिट जाते सब रोग।
शिव का अनुग्रह होते ही पीड़ा ना देते शोक।।

ब्र्हमा विष्णु शिव अनुगामी, व है दीन हीन के स्वामी
निर्बल के बलरूप है शम्भु, प्यासे को जलरूप है शम्भु
रावण शिव का भक्त निराला, शिव को दी दश शीश कि माला
गर्व से जब कैलाश उठाया, शिव ने अंगूठे से था दबाया
दुःख निवारण नाम है शिव का, रत्न है वो बिन दाम शिव का
शिव है सबके भाग्यविधाता, शिव का सुमिरन है फलदाता
शिव दधीचि के भगवंता, शिव की तरी अमर अनंता
शिव का सेवादार सुदर्शन, सांसे कर दी शिव को अर्पण
महादेव शिव औघड़दानी, बायें अंग में सजे भवानी
शिव शक्ति का मेल निराला, शिव का हर एक खेल निराला
शम्भर नामी भक्त को तारा, चन्द्रसेन का शोक निवारा
पिंगला ने जब शिव को ध्याया, देह छूटी और मोक्ष पाया
गोकर्ण की चन चूका अनारी, भव सागर से पार उतारी
अनसुइया ने किया आराधन, टूटे चिन्ता के सब बंधन
बेल पत्तो से पूजा करे चण्डाली, शिव की अनुकम्पा हुई निराली
मार्कण्डेय की भक्ति है शिव, दुर्वासा की शक्ति है शिव
राम प्रभु ने शिव आराधा, सेतु की हर टल गई बाधा
धनुषबाण था पाया शिव से, बल का सागर तब आया शिव से
श्री कृष्ण ने जब था ध्याया, दश पुत्रों का वर था पाया
हम सेवक तो स्वामी शिव है, अनहद अन्तर्यामी शिव है

दोहा
दीन दयालु शिव मेरे, शिव के रहियो दास।
घट घट की शिव जानते, शिव पर रख विश्वास।।

परशुराम ने शिव गुण गाया, कीन्हा तप और फरसा पाया
निर्गुण भी शिव शिव निराकार, शिव है सृष्टि के आधार
शिव ही होते मूर्तिमान, शिव ही करते जग कल्याण
शिव में व्यापक दुनिया सारी, शिव की सिद्धि है भयहारी
शिव है बाहर शिव ही अन्दर, शिव ही रचना सात समुन्द्र
शिव है हर इक के मन के भीतर, शिव है हर एक कण कण के भीतर
तन में बैठा शिव ही बोले, दिल की धड़कन में शिव डोले
‘हम’कठपुतली शिव ही नचाता, नयनों को पर नजर ना आता
माटी के रंगदार खिलौने, साँवल सुन्दर और सलोने
शिव हो जोड़े शिव हो तोड़े, शिव तो किसी को खुला ना छोड़े
आत्मा शिव परमात्मा शिव है, दयाभाव धर्मात्मा शिव है
शिव ही दीपक शिव ही बाती, शिव जो नहीं तो सब कुछ माटी
सब देवो में ज्येष्ठ शिव है, सकल गुणो में श्रेष्ठ शिव है
जब ये ताण्डव करने लगता, बृह्माण्ड सारा डरने लगता
तीसरा चक्षु जब जब खोले, त्राहि त्राहि यह जग बोले
शिव को तुम प्रसन्न ही रखना, आस्था लग्न बनाये रखना
विष्णु ने की शिव की पूजा, कमल चढाऊँ मन में सुझा
एक कमल जो कम था पाया, अपना सुंदर नयन चढ़ाया
साक्षात तब शिव थे आये, कमल नयन विष्णु कहलाये
इन्द्रधनुष के रंगो में शिव, संतो के सत्संगों में शिव

दोहा
महाकाल के भक्त को मार ना सकता काल।
द्वार खड़े यमराज को शिव है देते टाल।।

यज्ञ सूदन महा रौद्र शिव है, आनन्द मूरत नटवर शिव है
शिव ही है श्मशान के वासी, शिव काटें मृत्युलोक की फांसी
व्याघ्र चरम कमर में सोहे, शिव भक्तों के मन को मोहे
नन्दी गण पर करे सवारी, आदिनाथ शिव गंगाधारी
काल के भी तो काल है शंकर, विषधारी जगपाल है शंकर
महासती के पति है शंकर, दीन सखा शुभ मति है शंकर
लाखो शशि के सम मुख वाले, भंग धतूरे के मतवाले
काल भैरव भूतो के स्वामी, शिव से कांपे सब फलगामी
शिव है कपाली शिव भस्मांगी, शिव की दया हर जीव ने मांगी
मंगलकर्ता मंगलहारी, देव शिरोमणि महासुखकारी
जल तथा विल्व करे जो अर्पण, श्रद्धा भाव से करे समर्पण
शिव सदा उनकी करते रक्षा,सत्यकर्म की देते शिक्षा
लिंग पर चंदन लेप जो करते, उनके शिव भंडार हैं भरते
६४ योगनी शिव के बस में, शिव है नहाते भक्ति रस में
वासुकि नाग कण्ठ की शोभा, आशुतोष है शिव महादेवा
विश्वमूर्ति करुणानिधान, महा मृत्युंजय शिव भगवान
शिव धारे रुद्राक्ष की माला, नीलेश्वर शिव डमरू वाला
पाप का शोधक मुक्ति साधन, शिव करते निर्दयी का मर्दन

दोहा
शिव सुमरिन के नीर से धूल जाते है पाप।
पवन चले शिव नाम की उड़ते दुख संताप।।

पंचाक्षर का मंत्र शिव है, साक्षात सर्वेश्वर शिव है
शिव को नमन करे जग सारा, शिव का है ये सकल पसारा
क्षीर सागर को मथने वाले, ऋद्धि सीधी सुख देने वाले
अहंकार के शिव है विनाशक, धर्म-दीप ज्योति प्रकाशक
शिव बिछुवन के कुण्डलधारी, शिव की माया सृष्टि सारी
महानन्दा ने किया शिव चिन्तन, रुद्राक्ष माला किन्ही धारण
भवसिन्धु से शिव ने तारा, शिव अनुकम्पा अपरम्पारा
त्रि-जगत के यश है शिवजी, दिव्य तेज गौरीश है शिवजी
महाभार को सहने वाले, वैर रहित दया करने वाले
गुण स्वरूप है शिव अनूपा, अम्बानाथ है शिव तपरूपा
शिव चण्डीश परम सुख ज्योति, शिव करुणा के उज्ज्वल मोती
पुण्यात्मा शिव योगेश्वर, महादयालु शिव शरणेश्वर
शिव चरणन पे मस्तक धरिये, श्रद्धा भाव से अर्चन करिये
मन को शिवाला रूप बना लो, रोम रोम में शिव को रमा लो
माथे जो भक्त धूल धरेंगे, धन और धन से कोष भरेंगे
शिव का बाक भी बनना जावे, शिव का दास परम पद पावे
दशों दिशाओं मे शिव दृष्टि, सब पर शिव की कृपा दृष्टि
शिव को सदा ही सम्मुख जानो, कण-कण बीच बसे ही मानो
शिव को सौंपो जीवन नैया, शिव है संकट टाल खिवैया
अंजलि बाँध करे जो वंदन, भय जंजाल के टूटे बन्धन

दोहा
जिनकी रक्षा शिव करे, मारे न उसको कोय।
आग की नदिया से बचे, बाल ना बांका होय।।

शिव दाता भोला भण्डारी, शिव कैलाशी कला बिहारी
सगुण ब्रह्म कल्याण कर्ता, विघ्न विनाशक बाधा हर्ता
शिव स्वरूपिणी सृष्टि सारी, शिव से पृथ्वी है उजियारी
गगन दीप भी माया शिव की, कामधेनु है छाया शिव की
गंगा में शिव , शिव मे गंगा, शिव के तारे तुरत कुसंगा
शिव के कर में सजे त्रिशूला, शिव के बिना ये जग निर्मूला
स्वर्णमयी शिव जटा निराळी, शिव शम्भू की छटा निराली
जो जन शिव की महिमा गाये, शिव से फल मनवांछित पाये
शिव पग पँकज सवर्ग समाना, शिव पाये जो तजे अभिमाना
शिव का भक्त ना दुःख मे डोलें, शिव का जादू सिर चढ बोले
परमानन्द अनन्त स्वरूपा, शिव की शरण पड़े सब कूपा
शिव की जपियो हर पल माळा, शिव की नजर मे तीनो क़ाला
अन्तर घट मे इसे बसा लो, दिव्य जोत से जोत मिला लो
नम: शिवाय जपे जो स्वासा, पूरीं हो हर मन की आसा

दोहा
परमपिता परमात्मा पूरण सच्चिदानन्द।
शिव के दर्शन से मिले सुखदायक आनन्द।।

शिव से बेमुख कभी ना होना, शिव सुमिरन के मोती पिरोना
जिसने भजन है शिव के सीखे, उसको शिव हर जगह ही दिखे
प्रीत में शिव है शिव में प्रीती, शिव सम्मुख न चले अनीति
शिव नाम की मधुर सुगन्धी, जिसने मस्त कियो रे नन्दी
शिव निर्मल ‘निर्दोष’‘संजय’ निराले, शिव ही अपना विरद संभाले
परम पुरुष शिव ज्ञान पुनीता, भक्तो ने शिव प्रेम से जीता

दोहा
आंठो पहर अराधीय ज्योतिर्लिंग शिव रूप।
नयनं बीच बसाइये शिव का रूप अनूप।।

लिंग मय सारा जगत हैं, लिंग धरती आकाश
लिंग चिंतन से होत हैं सब पापो का नाश
लिंग पवन का वेग हैं, लिंग अग्नि की ज्योत
लिंग से पाताल हैँ लिंग वरुण का स्त्रोत
लिंग से हैं वनस्पति, लिंग ही हैं फल फूल
लिंग ही रत्न स्वरूप हैं, लिंग माटी निर्धूप

लिंग ही जीवन रूप हैं, लिंग मृत्युलिंगकार
लिंग मेघा घनघोर हैं, लिंग ही हैं उपचार
ज्योतिर्लिंग की साधना करते हैं तीनो लोग
लिंग ही मंत्र जाप हैं, लिंग का रूम श्लोक
लिंग से बने पुराण, लिंग वेदो का सार
रिधिया सिद्धिया लिंग हैं, लिंग करता करतार

प्रातकाल लिंग पूजिये पूर्ण हो सब काज
लिंग पे करो विश्वास तो लिंग रखेंगे लाज
सकल मनोरथ से होत हैं दुखो का अंत
ज्योतिर्लिंग के नाम से सुमिरत जो भगवंत
मानव दानव ऋषिमुनि ज्योतिर्लिंग के दास

सर्व व्यापक लिंग हैं पूरी करे हर आस
शिव रुपी इस लिंग को पूजे सब अवतार
ज्योतिर्लिंगों की दया सपने करे साकार
लिंग पे चढ़ने वैद्य का जो जन ले परसाद
उनके ह्रदय में बजे… शिव करूणा का नाद

महिमा ज्योतिर्लिंग की जाएंगे जो लोग
भय से मुक्ति पाएंगे रोग रहे न शोब
शिव के चरण सरोज तू ज्योतिर्लिंग में देख
सर्व व्यापी शिव बदले भाग्य तीरे
डारीं ज्योतिर्लिंग पे गंगा जल की धार
करेंगे गंगाधर तुझे भव सिंधु से पार
चित सिद्धि हो जाए रे लिंगो का कर ध्यान
लिंग ही अमृत कलश हैं लिंग ही दया निधान

ॐ नम: शिवाये ॐ नम: शिवाये ॐ नम: शिवाये ॐ नम: शिवाये ॐ नम: शिवाये ॐ नम: शिवाये ॐ नम: शिवाये ॐ नम: शिवाये ॐ नम: शिवाये ॐ नम: शिवाये ॐ नम:

Part- 4 & 5

ज्योतिर्लिंग है शिव की ज्योति, ज्योतिर्लिंग है दया का मोती
ज्योतिर्लिंग है रत्नों की खान, ज्योतिर्लिंग में रमा जहान
ज्योतिर्लिंग का तेज़ निराला, धन सम्पति देने वाला
ज्योतिर्लिंग में है नट नागर, अमर गुणों का है ये सागर
ज्योतिर्लिंग की की जो सेवा, ज्ञान पान का पाओगे मेवा
ज्योतिर्लिंग है पिता सामान, सष्टि इसकी है संतान
ज्योतिर्लिंग है इष्ट प्यारे, ज्योतिर्लिंग है सखा हमारे
ज्योतिर्लिंग है नारीश्वर, ज्योतिर्लिंग है शिव विमलेश्वर
ज्योतिर्लिंग गोपेश्वर दाता, ज्योतिर्लिंग है विधि विधाता
ज्योतिर्लिंग है शर्रेंडश्वर स्वामी, ज्योतिर्लिंग है अन्तर्यामी
सतयुग में रत्नो से शोभित, देव जानो के मन को मोहित
ज्योतिर्लिंग है अत्यंत सुन्दर, छत्ता इसकी ब्रह्माण्ड अंदर
त्रेता युग में स्वर्ण सजाता, सुख सूरज ये ध्यान ध्वजाता
सक्ल सृष्टि मन की करती, निसदिन पूजा भजन भी करती
द्वापर युग में पारस निर्मित, गुणी ज्ञानी सुर नर सेवी
ज्योतिर्लिंग सबके मन को भाता, महमारक को मार भगाता
कलयुग में पार्थिव की मूरत, ज्योतिर्लिंग नंदकेश्वर सूरत
भक्ति शक्ति का वरदाता, जो दाता को हंस बनता
ज्योतिर्लिंग पर पुष्प चढ़ाओ, केसर चन्दन तिलक लगाओ
जो जान करें दूध का अर्पण, उजले हो उनके मन दर्पण

दोहा
ज्योतिर्लिंग के जाप से तन मन निर्मल होये।
इसके भक्तों का मनवा करे न विचलित कोई।।

सोमनाथ सुख करने वाला, सोम के संकट हरने वाला
दक्ष श्राप से सोम छुड़ाया, सोम है शिव की अद्भुत माया
चंद्र देव ने किया जो वंदन, सोम ने काटे दुःख के बंधन
ज्योतिर्लिंग है सदा सुखदायी, दीन हीन का सहायी
भक्ति भाव से इसे जो ध्याये, मन वाणी शीतल तर जाये
शिव की आत्मा रूप सोम है प्रभु परमात्मा रूप सोम है
यंहा उपासना चंद्र ने की, शिव ने उसकी चिंता हर ली
इसके रथ की शोभा न्यारी, शिव अमृत सागर भवभयधारी
चंद्र कुंड में जो भी नहाये, पाप से वे जन मुक्ति पाए
छ: कुष्ठ सब रोग मिटाये, नाया कुंदन पल में बनावे
मलिकार्जुन है नाम न्यारा, शिव का पावन धाम प्यारा
कार्तिकेय है जब शिव से रूठे, माता पिता के चरण है छूते
श्री शैलेश पर्वत जा पहुंचे, कष्ट भय पार्वती के मन में
प्रभु कुमार से चली जो मिलने, संग चलना माना शंकर ने
श्री शैलेश पर्वत के ऊपर, गए जो दोनों उमा महेश्वर
उन्हें देखकर कार्तिकेय उठ भागे, और ुमार पर्वत पर विराजे
जंहा श्रित हुए पारवती शंकर, काम बनावे शिव का सुन्दर
शिव का अर्जन नाम सुहाता, मलिका है मेरी पारवती माता
लिंग रूप हो जहाँ भी रहते, मलिकार्जुन है उसको कहते
मनवांछित फल देने वाला, निर्बल को बल देने वाला

दोहा
ज्योतिर्लिंग के नाम की ले मन माला फेर।
मनोकामना पूरी होगी लगे न चिन भी देर।।

उज्जैन की नदी क्षिप्रा किनारे, ब्राह्मण थे शिव भक्त न्यारे
दूषण दैत्य सताता निसदिन, गर्म द्वेश दिखलाता जिस दिन
एक दिन नगरी के नर नारी, दुखी हो राक्षस से अतिहारी
परम सिद्ध ब्राह्मण से बोले, दैत्य के डर से हर कोई डोले
दुष्ट निसाचर छुटकारा, पाने को यज्ञ प्यारा
ब्राह्मण तप ने रंग दिखाए, पृथ्वी फाड़ महाकाल आये
राक्षस को हुंकार मारा, भय भक्तों उबारा
आग्रह भक्तों ने जो कीन्हा, महाकाल ने वर था दीना
ज्योतिर्लिंग हो रहूं यंहा पर, इच्छा पूर्ण करूँ यंहा पर
जो कोई मन से मुझको पुकारे उसको दूंगा वैभव सारे
उज्जैनी राजा के पास मणि थी अद्भुत बड़ी ही ख़ास
जिसे छीनने का षड़यंत्र, किया था कल्यों ने ही मिलकर
मणि बचाने की आशा में, शत्रु भी कई थे अभिलाषा में
शिव मंदिर में डेरा जमाकर, खो गए शिव का ध्यान लगाकर
एक बालक ने हद ही कर दी, उस राजा की देखा देखी
एक साधारण सा पत्थर लेकर, पहुंचा अपनी कुटिया भीतर
शिवलिंग मान के वे पाषाण, पूजने लगा शिव भगवान्
उसकी भक्ति चुम्बक से, खींचे ही चले आये झट से भगवान्
ओमकार ओमकार की रट सुनकर, प्रतिष्ठित ओमकार बनकर
ओम्कारेश्वर वही है धाम, बन जाए बिगड़े वंहा पे काम
नर नारायण ये दो अवतार, भोलेनाथ को था जिनसे प्यार
पत्थर का शिवलिंग बनाकर, नमः शिवाय की धुन गाकर

दोहा
शिव शंकर ओमकार का रट ले मनवा नाम।
जीवन की हर राह में शिवजी लेंगे काम।।

नर नारायण ये दो अवतार, भोलेनाथ को था जिनसे प्यार
पत्थर का शिवलिंग बनाकर, नमः शिवाय की धुन गाकर
कई वर्ष तप किया शिव का, पूजा और जप किया शंकर का
शिव दर्शन को अंखिया प्यासी, आ गए एक दिन शिव कैलाशी
नर नारायण से शिव है बोले, दया के मैंने द्वार है खोले
जो हो इच्छा लो वरदान, भक्त के में है भगवान्
करवाने की भक्त ने विनती, कर दो पवन प्रभु ये धरती
तरस रहा ये जार का खंड ये, बन जाये अमृत उत्तम कुंड ये
शिव ने उनकी मानी बात, बन गया बेनी केदानाथ
मंगलदायी धाम शिव का, गूंज रहा जंहा नाम शिव का
कुम्भकरण का बेटा भीम, ब्रह्मवार का हुआ बलि असीर
इंद्रदेव को उसने हराया, काम रूप में गरजता आया
कैद किया था राजा सुदक्षण, कारागार में करे शिव पूजन
किसी ने भीम को जा बतलाया, क्रोध से भर के वो वंहा आया
पार्थिव लिंग पर मार हथोड़ा, जग का पावन शिवलिंग तोडा
प्रकट हुए शिव तांडव करते, लगा भागने भीम था डर के
डमरू धार ने देकर झटका, धरा पे पापी दानव पटका
ऐसा रूप विक्राल बनाया, पल में राक्षस मार गिराया
बन गए भोले जी प्रयलंकार, भीम मार के हुए भीमशंकर
शिव की कैसी अलौकिक माया, आज तलक कोई जान न पाया

हर हर हर महादेव का मंत्र पढ़ें हर दिन रे
दुःख से पीड़क मंदिर पा जायेगा चैन
परमेश्वर ने एक दिन भक्तों, जानना चाहा एक में दो को
नारी पुरुष हो प्रकटे शिवजी, परमेश्वर के रूप हैं शिवजी
नाम पुरुष का हो गया शिवजी, नारी बनी थी अम्बा शक्ति
परमेश्वर की आज्ञा पाकर, तपी बने दोनों समाधि लगाकर
शिव ने अद्भुत तेज़ दिखाया, पांच कोष का नगर बसाया
ज्योतिर्मय हो गया आकाश, नगरी सिद्ध हुई पुरुष के पास
शिव ने की तब सृष्टि की रचना, पढ़ा उस नगरों को कशी बनना
पाठ पौष के कारण तब ही, इसको कहते हैं पंचकोशी
विश्वेश्वर ने इसे बसाया, विश्वनाथ ये तभी कहलाया
यंहा नमन जो मन से करते, सिद्ध मनोरथ उनके होते
ब्रह्मगिरि पर तप गौतम लेकर, पाए कितनो के सिद्ध लेकर
तृषा ने कुछ ऋषि भटकाए, गौतम के वैरी बन आये
द्वेष का सबने जाल बिछाया, गौ हत्या का इल्जाम लगाया
और कहा तुम प्रायश्चित्त करना, स्वर्गलोक से गंगा लाना
एक करोड़ शिवलिंग लगाकर, गौतम की तप ज्योत उजागर
प्रकट शिव और शिवा वंहा पर, माँगा ऋषि ने गंगा का वर
शिव से गंगा ने विनय की, ऐसे प्रभु में यंहा न रहूंगी
ज्योतिर्लिंग प्रभु आप बन जाए, फिर मेरी निर्मल धरा बहाये
शिव ने मानी गंगा की विनती, गंगा बानी झटपट गौतमी
त्रियंबकेश्वर है शिवजी विराजे, जिनका जग में डंका बाजे

दोहा
गंगा धर की अर्चना करे जो मन्चित लाये।
शिव करुणा से उनपर आंच कभी न आये।।

राक्षस राज महाबली रावण, ने जब किया शिव तप से वंदन
भये प्रसन्न शम्भू प्रगटे, दिया वरदान रावण पग पढ़के
ज्योतिर्लिंग लंका ले जाओ, सदा ही शिव शिव जय शिव गाओ
प्रभु ने उसकी अर्चन मानी, और कहा रहे सावधानी
रस्ते में इसको धरा पे न धरना, यदि धरेगा तो फिर न उठना
शिवलिंग रावण ने उठाया, गरुड़देव ने रंग दिखाया
उसे प्रतीत हुई लघुशंका, उसने खोया उसने मन का
विष्णु ब्राह्मण रूप में आये, ज्योतिर्लिंग दिया उसे थमाए
रावण निभ्यात हो जब आया, ज्योतिर्लिंग पृथ्वी पर पाया
जी भर उसने जोर लगाया, गया न फिर से उठाया
लिंग गया पाताल में उस पल, अध् ांगल रहा भूमि ऊपर
पूरी रात लंकेश चिपकाया, चंद्रकूप फिर कूप बनाया
उसमे तीर्थों का जल डाला, नमो शिवाय की फेरी माला
जल से किया था लिंग अभिषेक, जय शिव ने भी दृश्य देखा
रत्न पूजन का उसे उन कीन्हा, नटवर पूजा का उसे वर दीना
पूजा करि मेरे मन को भावे, वैधनाथ ये सदा कहाये
मनवांछित फल मिलते रहेंगे, सूखे उपवन खिलते रहेंगे
गंगा जल जो कांवड़ लावे, भक्तजन मेरे परम पद पावे
ऐसा अनुपम धाम है शिव का, मुक्तिदाता नाम है शिव का
भक्तन की यंहा हरी बनाये, बोल बम बोल बम जो न गाये

बैधनाथ भगवान् की पूजा करो धर ध्याये
सफल तुम्हारे काज हो मुश्किलें आसान
सुप्रिय वैभव प्रेम अनुरागी, शिव संग जिसकी लगी थी
ताड़ प्रताड दारुक अत्याचारी, देता उसको प्यास का मारी
सुप्रिय को निर्लज्पुरी लेजाकर, बंद किया उसे बंदी बनाकर
लेकिन भक्ति छुट नहीं पायी, जेल में पूजा रुक नहीं पायी
दारुक एक दिन फिर वंहा आया, सुप्रिय भक्त को बड़ा धमकाया
फिर भी श्रद्धा हुई न विचलित, लगा रहा वंदन में ही चित
भक्तन ने जब शिवजी को पुकारा, वंहा सिंघासन प्रगट था न्यारा
जिस पर ज्योतिर्लिंग सजा था, मष्तक अश्त्र ही पास पड़ा था
अस्त्र ने सुप्रिय जब ललकारा, दारुक को एक वार में मारा
जैसा शिव का आदेश था आया, जय शिवलिंग नागेश कहलाया
रघुवर की लंका पे चढ़ाई , ललिता ने कला दिखाई
सौ योजन का सेतु बांधा, राम ने उस पर शिव आराधा
रावण मार के जब लौट आये, परामर्श को ऋषि बुलाये
कहा मुनियों ने धयान दीजौ, प्रभु हत्या का प्रायश्चित्य कीजौ
बालू काली ने सीए बनाया, जिससे रघुवर ने ये ध्याया
राम कियो जब शिव का ध्यान, ब्रह्म दलन का धूल गया पाप
हर हर महादेव जय कारी, भूमण्डल में गूंजे न्यारी
जंहा चरना शिव नाम की बहती, उसको सभी रामेश्वर कहते
गंगा जल से यंहा जो नहाये, जीवन का वो हर सख पाए
शिव के भक्तों कभी न डोलो जय रामेश्वर जय शिव बोलो

पारवती बल्ल्भ शंकर कहे जो एक मन होये
शिव करुणा से उसका करे न अनिष्ट कोई
देवगिरि ही सुधर्मा रहता, शिव अर्चन का विधि से करता
उसकी सुदेहा पत्नी प्यारी, पूजती मन से तीर्थ पुरारी
कुछ कुछ फिर भी रहती चिंतित, क्यूंकि थी संतान से वंचित
सुषमा उसकी बहिन थी छोटी, प्रेम सुदेहा से बड़ा करती
उसे सुदेहा ने जो मनाया, लगन सुधर्मा से करवाया
बालक सुषमा कोख से जन्मा, चाँद से जिसकी होती उपमा
पहले सुदेहा अति हर्षायी, ईर्ष्या फिर थी मन में समायी
कर दी उसने बात निराली, हत्या बालक की कर डाली
उसी सरोवर में शव डाला, सुषमा जपती शिव की माला
श्रद्धा से जब ध्यान लगाया, बालक जीवित हो चल आया
साक्षात् शिव दर्शन दीन्हे, सिद्ध मनोरथ सरे कीन्हे
वासित होकर परमेश्वर, हो गए ज्योतिर्लिंग घुश्मेश्वर
जो चुगन लगे लगन के मोती, शिव की वर्षा उन पर होती
शिव है दयालु डमरू वाले, शिव है संतन के रखवाले
शिव की भक्ति है फलदायक, शिव भक्तों के सदा सहायक
मन के शिवाले में शिव देखो, शिव चरण में मस्तक टेको
गणपति के शिव पिता हैं प्यारे, तीनो लोक से शिव हैं न्यारे
शिव चरणन का होये जो दास, उसके गृह में शिव का निवास
शिव ही हैं निर्दोष निरंजन, मंगलदायक भय के भंजन
श्रद्धा के मांगे बिन पत्तियां, जाने सबके मन की बतियां

दोहा
शिव अमृत का प्यार से करे जो निसदिन पान।
चंद्रचूड़ सदा शिव करे उनका तो कल्याण।।

Tagged : / / / / / /

Aigiri Nandini Lyrics in Sanskrit/Hindi/English – By Rajalakshmee Sanjay

This Bhajan “Aigiri Nandini Lyrics” is a Mata Bhajan which you can play in Navratri, as on any other day. And the whole bhajan is fully dedicated to Durga Devi Mata.

Like you know that Durga Devi Mata is the very Angry mata and she represents the Anger of the God that’s why this bhajan of Aigiri Nandini Lyrics is made.

Bhajan Credits:

Aigiri Nandini Bhajan Credits
SingerRajalakshmee Sanjay
LanguageSanskrit, English, Hindi
LyricsAdi Sankaracharya
Music Producer/ArrangerSanjay Chandrasekhar

About Durga Mata

Durga, identified as Adi Parashakti, is a principal and popular form of the Hindu Goddess.

She is a goddess of war, the warrior form of Parvati, whose mythology centers around combating evils and demonic forces that threaten peace, prosperity, and Dharma the power of good over evil.

Also see Bhagat Ke Vash Me Hai Bhagwan Lyrics

Aigiri Nandini Lyrics in Sanskrit

अयि गिरिनन्दिनि नन्दितमेदिनि विश्वविनोदिनि नन्दिनुते
गिरिवरविन्ध्यशिरोऽधिनिवासिनि विष्णुविलासिनि जिष्णुनुते ।
भगवति हे शितिकण्ठकुटुम्बिनि भूरिकुटुम्बिनि भूरिकृते
जय जय हे महिषासुरमर्दिनि रम्यकपर्दिनि शैलसुते ॥ १ ॥

सुरवरवर्षिणि दुर्धरधर्षिणि दुर्मुखमर्षिणि हर्षरते
त्रिभुवनपोषिणि शङ्करतोषिणि किल्बिषमोषिणि घोषरते
दनुजनिरोषिणि दितिसुतरोषिणि दुर्मदशोषिणि सिन्धुसुते
जय जय हे महिषासुरमर्दिनि रम्यकपर्दिनि शैलसुते ॥ २ ॥

अयि जगदम्ब मदम्ब कदम्ब वनप्रियवासिनि हासरते
शिखरि शिरोमणि तुङ्गहिमलय शृङ्गनिजालय मध्यगते ।
मधुमधुरे मधुकैटभगञ्जिनि कैटभभञ्जिनि रासरते
जय जय हे महिषासुरमर्दिनि रम्यकपर्दिनि शैलसुते ॥ ३ ॥

अयि शतखण्ड विखण्डितरुण्ड वितुण्डितशुण्द गजाधिपते
रिपुगजगण्ड विदारणचण्ड पराक्रमशुण्ड मृगाधिपते ।
निजभुजदण्ड निपातितखण्ड विपातितमुण्ड भटाधिपते
जय जय हे महिषासुरमर्दिनि रम्यकपर्दिनि शैलसुते ॥ ४ ॥

अयि रणदुर्मद शत्रुवधोदित दुर्धरनिर्जर शक्तिभृते
चतुरविचार धुरीणमहाशिव दूतकृत प्रमथाधिपते ।
दुरितदुरीह दुराशयदुर्मति दानवदुत कृतान्तमते
जय जय हे महिषासुरमर्दिनि रम्यकपर्दिनि शैलसुते ॥ ५ ॥

अयि शरणागत वैरिवधुवर वीरवराभय दायकरे
त्रिभुवनमस्तक शुलविरोधि शिरोऽधिकृतामल शुलकरे ।
दुमिदुमितामर धुन्दुभिनादमहोमुखरीकृत दिङ्मकरे
जय जय हे महिषासुरमर्दिनि रम्यकपर्दिनि शैलसुते ॥ ६ ॥

अयि निजहुङ्कृति मात्रनिराकृत धूम्रविलोचन धूम्रशते
समरविशोषित शोणितबीज समुद्भवशोणित बीजलते ।
शिवशिवशुम्भ निशुम्भमहाहव तर्पितभूत पिशाचरते
जय जय हे महिषासुरमर्दिनि रम्यकपर्दिनि शैलसुते ॥ ७ ॥

धनुरनुषङ्ग रणक्षणसङ्ग परिस्फुरदङ्ग नटत्कटके
कनकपिशङ्ग पृषत्कनिषङ्ग रसद्भटशृङ्ग हताबटुके ।
कृतचतुरङ्ग बलक्षितिरङ्ग घटद्बहुरङ्ग रटद्बटुके
जय जय हे महिषासुरमर्दिनि रम्यकपर्दिनि शैलसुते ॥ ८ ॥

सुरललना ततथेयि तथेयि कृताभिनयोदर नृत्यरते
कृत कुकुथः कुकुथो गडदादिकताल कुतूहल गानरते ।
धुधुकुट धुक्कुट धिंधिमित ध्वनि धीर मृदंग निनादरते
जय जय हे महिषासुरमर्दिनि रम्यकपर्दिनि शैलसुते ॥ ९ ॥

जय जय जप्य जयेजयशब्द परस्तुति तत्परविश्वनुते
झणझणझिञ्झिमि झिङ्कृत नूपुरशिञ्जितमोहित भूतपते ।
नटित नटार्ध नटी नट नायक नाटितनाट्य सुगानरते
जय जय हे महिषासुरमर्दिनि रम्यकपर्दिनि शैलसुते ॥ १० ॥

अयि सुमनःसुमनःसुमनः सुमनःसुमनोहरकान्तियुते
श्रितरजनी रजनीरजनी रजनीरजनी करवक्त्रवृते ।
सुनयनविभ्रमर भ्रमरभ्रमर भ्रमरभ्रमराधिपते
जय जय हे महिषासुरमर्दिनि रम्यकपर्दिनि शैलसुते ॥ ११ ॥

सहितमहाहव मल्लमतल्लिक मल्लितरल्लक मल्लरते
विरचितवल्लिक पल्लिकमल्लिक झिल्लिकभिल्लिक वर्गवृते ।
शितकृतफुल्ल समुल्लसितारुण तल्लजपल्लव सल्ललिते
जय जय हे महिषासुरमर्दिनि रम्यकपर्दिनि शैलसुते ॥ १२ ॥

अविरलगण्ड गलन्मदमेदुर मत्तमतङ्गजराजपते
त्रिभुवनभूषण भूतकलानिधि रूपपयोनिधि राजसुते ।
अयि सुदतीजन लालसमानस मोहन मन्मथराजसुते
जय जय हे महिषासुरमर्दिनि रम्यकपर्दिनि शैलसुते ॥ १३ ॥

कमलदलामल कोमलकान्ति कलाकलितामल भाललते
सकलविलास कलानिलयक्रम केलिचलत्कल हंसकुले ।
अलिकुलसङ्कुल कुवलयमण्डल मौलिमिलद्बकुलालिकुले
जय जय हे महिषासुरमर्दिनि रम्यकपर्दिनि शैलसुते ॥ १४ ॥

करमुरलीरव वीजितकूजित लज्जितकोकिल मञ्जुमते
मिलितपुलिन्द मनोहरगुञ्जित रञ्जितशैल निकुञ्जगते ।
निजगणभूत महाशबरीगण सद्गुणसम्भृत केलितले
जय जय हे महिषासुरमर्दिनि रम्यकपर्दिनि शैलसुते ॥ १५ ॥

कटितटपीत दुकूलविचित्र मयुखतिरस्कृत चन्द्ररुचे
प्रणतसुरासुर मौलिमणिस्फुर दंशुलसन्नख चन्द्ररुचे
जितकनकाचल मौलिमदोर्जित निर्भरकुञ्जर कुम्भकुचे
जय जय हे महिषासुरमर्दिनि रम्यकपर्दिनि शैलसुते ॥ १६ ॥

विजितसहस्रकरैक सहस्रकरैक सहस्रकरैकनुते
कृतसुरतारक सङ्गरतारक सङ्गरतारक सूनुसुते ।
सुरथसमाधि समानसमाधि समाधिसमाधि सुजातरते ।
जय जय हे महिषासुरमर्दिनि रम्यकपर्दिनि शैलसुते ॥ १७ ॥

पदकमलं करुणानिलये वरिवस्यति योऽनुदिनं सुशिवे
अयि कमले कमलानिलये कमलानिलयः स कथं न भवेत् ।
तव पदमेव परम्पदमित्यनुशीलयतो मम किं न शिवे
जय जय हे महिषासुरमर्दिनि रम्यकपर्दिनि शैलसुते ॥ १८ ॥

कनकलसत्कलसिन्धुजलैरनुषिञ्चति तेगुणरङ्गभुवम्
भजति स किं न शचीकुचकुम्भतटीपरिरम्भसुखानुभवम् ।
तव चरणं शरणं करवाणि नतामरवाणि निवासि शिवम्
जय जय हे महिषासुरमर्दिनि रम्यकपर्दिनि शैलसुते ॥ १९ ॥

तव विमलेन्दुकुलं वदनेन्दुमलं सकलं ननु कूलयते
किमु पुरुहूतपुरीन्दु मुखी सुमुखीभिरसौ विमुखीक्रियते ।
मम तु मतं शिवनामधने भवती कृपया किमुत क्रियते
जय जय हे महिषासुरमर्दिनि रम्यकपर्दिनि शैलसुते ॥ २० ॥

अयि मयि दीन दयालुतया कृपयैव त्वया भवितव्यमुमे
अयि जगतो जननी कृपयासि यथासि तथानुमितासिरते ।
यदुचितमत्र भवत्युररीकुरुतादुरुतापमपाकुरुते
जय जय हे महिषासुरमर्दिनि रम्यकपर्दिनि शैलसुते ॥ २१ ॥

Aigiri Nandini Lyrics in English

Ayi giri nandini, nandhitha medhini,
Viswa vinodhini nandanuthe,
Girivara vindhya sirodhi nivasini,
Vishnu Vilasini Jishnu nuthe,
Bhagawathi hey sithi kanda kudumbini,
Bhoori kudumbini bhoori kruthe,
Jaya Jaya He Mahishasura Mardini, Ramya Kapardini Shaila Suthe-

Suravara varshini, durdara darshini,
Durmukhamarshani, harsha rathe,
Tribhuvana poshini, Sankara thoshini,
Kilbisisha moshini, ghosha rathe,
Danuja niroshini, Dithisutha roshini,
Durmatha soshini, Sindhu suthe,
Jaya Jaya Hey Mahishasura Mardini, Ramya Kapardini Shaila Suthe

Ayi Jagadambha Madambha, Kadambha,
Vana priya vasini, Hasarathe,
Shikhari siromani, thunga Himalaya,
Srunga nijalaya, madhyagathe,
Madhu Madure, Mdhukaitabha banjini,
Kaitabha banjini, rasa rathe,
Jaya Jaya He Mahishasura Mardini, Ramya Kapardini Shaila Suthe

Ayi satha kanda, vikanditha runda,
Vithunditha shunda, Gajathipathe,
Ripu Gaja ganda, Vidhaarana chanda,
Paraakrama shunda, mrugathipathe,
Nija bhuja danda nipaathitha khanda,
Vipaathitha munda, bhatathipathe,
Jaya Jaya He Mahishasura Mardini, Ramya Kapardini Shaila Suthe

Ayi rana durmathaShathru vadhothitha,
Durdhara nirjjara, shakthi bruthe,
Chathura vicharadureena maha shiva,
Duthatkrutha pramadhipathe,
Duritha Dureeha, dhurasaya durmathi,
Dhanava dhutha kruithaanthamathe,
Jaya Jaya He Mahishasura Mardini, Ramya Kapardini Shaila Suthe

Ayi saranagatha vairi vadhuvara,
Veera varaa bhaya dhayakare,
Tribhuvana masthaka soola virodhi,
Sirodhi krithamala shoolakare,
Dimidmi thaamara dundubinadha mahaa
Mukharikruthatigmakare,
Jaya Jaya He Mahishasura Mardini, Ramya Kapardini Shaila Suthe

Ayi nija huum kruthimathra niraakrutha,
Dhoomra vilochana Dhoomra sathe,
Samara vishoshitha sonitha bheeja,
Samudhbhava sonitha bheejalathe,
Shiva shiva shumbha nishumbhamaha hava,
Tarpitha bhootha pisacha rathe,
Jaya Jaya He Mahishasura Mardini, Ramya Kapardini Shaila Suthe

Dhanu ranushanga rana kshana sanga,
Parisphuradanga natath katake,
Kanaka pishanga brushathka nishanga,
Rasadbhata shrunga hatavatuke,
Kritha chaturanga bala kshithirangakadath,
Bahuranga ratadhpatuke,
Jaya Jaya He Mahishasura Mardini, Ramya Kapardini Shaila Suthe

Sura Lalanata Tatheyi Tatheyi Tathabhi Nayottama Nrtya Rate
Hasa Vilasa Hulasa Mayi Prana Tartaja Nemita Prema Bhare
Dhimi Kita Dhikkata Dhikkata Dhimi Dhvani Ghora Mrdanga Ninada Late
Jaya Jaya He Mahishasura Mardini, Ramyaka Pardini Shaila Suthe

Jaya Jaya hey japya jayejaya shabda,
Parastuti tatpara vishvanute,
Bhana Bhanabhinjimi bhingrutha noopura,
Sinjitha mohitha bhootha pathe,
Nadintha nataartha nadi nada nayaka,
Naditha natya sugaanarathe,
Jaya Jaya He Mahishasura Mardini, Ramya Kapardini Shaila Suthe

Ayi sumana sumana,
Sumana sumanohara kanthiyuthe,
Sritha rajani rajani rajani,
Rajaneekaravakthra vruthe,
Sunayana vibhramarabhrama,
Bhramarabrahmaradhipadhe,
Jaya Jaya He Mahishasura Mardini, Ramya Kapardini Shaila Suthe

Sahitha maha hava mallama hallika,
Mallitharallaka mallarathe,
Virachithavallika pallika mallika billika,
Bhillika varga Vruthe,
Sithakruthapulli samulla sitharuna,
Thallaja pallava sallalithe,
Jaya Jaya He Mahishasura Mardini, Ramya Kapardini Shaila Suthe

Avirala ganda kalatha mada medura,
Matha matanga rajapathe,
Tribhuvana bhooshana bhootha kalanidhi,
Roopa payonidhi raja suthe,
Ayi suda thijjana lalasa manasa,
Mohana manmatha raja suthe,
Jaya Jaya He Mahishasura Mardini, Ramya Kapardini Shaila Suthe

Kamala dalaamala komala kanthi,
Kala kalithaamala bala lathe,
Sakala vilasa Kala nilayakrama,
Keli chalathkala hamsa kule,
Alikula sankula kuvalaya mandala,
Mauli miladh bhakulalikule,
Jaya Jaya He Mahishasura Mardini, Ramya Kapardini Shaila Suthe

Kara murali rava veejitha koojitha,
Lajjitha kokila manjumathe,
Militha pulinda manohara kunchitha,
Ranchitha shaila nikunjakathe,
Nija guna bhootha maha sabari gana,
Sathguna sambrutha kelithale,
Jaya Jaya He Mahishasura Mardini, Ramya Kapardini Shaila Suthe

Kati thata peetha dukoola vichithra,
Mayuka thiraskrutha Chandra ruche,
Pranatha suraasura mouli mani sphura,
Damsula sannka Chandra ruche,
Jitha kanakachala maulipadorjitha,
Nirbhara kunjara kumbhakuche,
Jaya Jaya He Mahishasura Mardini, Ramya Kapardini Shaila Suthe

Vijitha sahasra karaika sahasrakaraika,
Sarakaraika nuthe,
Krutha sutha tharaka sangaratharaka,
Sangaratharaka soonu suthe,
Suratha Samadhi samana Samadhi,
Samadhi Samadhi sujatharathe,
Jaya Jaya He Mahishasura Mardini, Ramya Kapardini Shaila Suthe-

Padakamalam karuna nilaye varivasyathi,
yo anudhinam sa shive,
Ayi kamale kamala nilaye kamala nilaya
Sa katham na bhaveth,
Thava padameva param ithi
Anusheelayatho mama kim na shive,
Jaya Jaya He Mahishasura Mardini, Ramya Kapardini Shaila Suthe

Kanakala sathkala sindhu jalairanu
Sinjinuthe guna ranga bhuvam,
Bhajathi sa kim na Shachi kucha kumbha
Thati pari rambha sukhanubhavam,
Thava charanam saranam kara vani
Nataamaravaaninivasi shivam,
Jaya Jaya He Mahishasura Mardini, Ramya Kapardini Shaila Suthe

Thava Vimalendu kulam vadnedumalam
Sakalayananu kulayathe,
Kimu puruhootha pureendu mukhi
Sumukhibhee rasou vimukhi kriyathe,
Mama thu matham shivanama dhane
Bhavathi krupaya kimu na kriyathe,
Jaya Jaya hey Mahishasura mardini, Ramya kapardini, shaila Suthe

Ayi mai deena dayalu thaya krupayaiva
Thvaya bhavthavyam ume,
Ayi jagatho janani kripayaa asi
thatha anumithasi rathe
Na yaduchitham atra bhavathvya rari kurutha,
durutha pamapakarute
Jaya Jaya He Mahishasura Mardini, Ramya Kapardini Shaila Suthe

Tagged : / / / / / /

Mukti Dilaye Yeshu Naam Lyrics in Hindi/English – By Prateek Joseph

This Song “Mukti Dilaye Yeshu Naam Lyrics” is created and composed by Prateek Joseph, as the whole Bhajan has been Dedicated to Yeshu i.e. the God Jesus (Christan’s God).

Also See: Daya Kar Daan Bhakti Ka Lyrics

Bhajan Credits:

AlbumYeshu Naam
SingerPrateek Joseph

Mukti Dilaye Yeshu Naam Lyrics in English

Mukti dilaaye Yeeshu naam ,
  Shaanti dilaaye Yeeshu naam , bolo (2)

1. Yeeshu daya ka bahata saagar ,
    Yeeshu hai daata mahaan …

2. Charanee mein toone janm liya Yeeshu ,
    sulli par kiya vishraam …..

3. ham par bhee Yeeshu kripa karana ,
    ham hai teree santaan …..

4. ham sabake paapon ko mitaane ,
    Yeeshu hua balidaan …..

5. kroos par apana khoon bahaaya ,
    saara chukaaya daam ….

Mukti Dilaye Yeshu Naam Lyrics in Hindi

Also see Deva Ho Deva Ganpati Deva Lyrics 

मुक्ति दिलाये यीशु नाम
शांति दिलाये यीशु नामचरणी में तू ने जन्म लिया, यीशु-2
क्रूस पर किया विश्राम
क्रूस पर किया विश्राम
मुक्ति दिलाये…क्रूस पर अपना खून बहाया-2
सारा चुकाया दाम
सारा चुकाया दाम
मुक्ति दिलाये …यीशु दया का बहता सागर-2
यीशु है दाता महान
यीशु है दाता महान
मुक्ति दिलाये…हम सबके पापों को मिटाने-2
यीशु हुआ बलिदान
यीशु हुआ बलिदान
मुक्ति दिलाये …हम पर भी यीशु कृपा करना-2
हम हैं पापी नादान
हम हैं पापी नादान
मुक्ति दिलाये …मृत्यू पर यीशु विजय हुआ है
देने को अनन्त जीवन दान
देने को अनन्त जीवन दान
मुक्ति दिलाये …

Tagged : / / / / /

Shukar Dateya Lyrics in Hindi/English/Punjabi – By Prabha Gill

This Bhajan “Shukar Dateya Lyrics” is fully dedicated to all Gurus of Sikhs and specially created for Guru Nanak Dev Ji.

In the whole bhajan Prabha Gill has given his Best Performance to make this bhajan more delightful.

Bhajan Credits:

Shukar Dateya Bhajan Credits 
LabelPrabha Gill Music
Singer Prabh Gill
Music Desi Routz
Lyrics Gurpreet Gill

About Prabha Gill:

Prabh Gill is a Punjabi Singer from India. He was born on 23rd December 1984 at Ludhiana, Punjab, India.

Prabh Gill’s father’s name is Balwinder Singh Gill. He was a bus driver. Check out the table below to get complete information about Prabh Gill.

Shukar Dateya Lyrics in Hindi

शूकर दातिया तेरा शूकर दातिया,
ज़िंदगी रही है गुजर दातिया,
शूकर दातिया तेरा शूकर दातिया,

आम रहा या ख़ास होवा मैं एह कदे ना चावा मैं,
मूल मेहनत दा पे जावे इहे करा दुआवा मैं,
बस एहना बख्शदे हुनर दतिया,
शूकर दातिया तेरा शूकर दातिया,

कई पैरा तो नंगे फिरदे सिर ते लभन शावा,
मैनु दाता सब कुछ दिता क्यों न शूकर मनावा,
सोखा किता साहा दा सफर दातिया,
शूकर दातिया तेरा शूकर दातिया,

एह शोरत दी पौड़ी एक दिन डीग ही पेनी है,
एह पैसे दी दोरह ता गिला चलदी रेहनी है,
मेरे पल्ले पा दे तू सबर दातिया,
शूकर दातिया तेरा शूकर दातिया,

Shukar Dateya Lyrics in English

Main Kaagaz Di Bedi Rabba
Tu Mainu Paar Langhaya
Shukar Kara’n
Main
Tera Har Dum
Main Jo Mangeya
So PaayaShukar Daateya
Tera
Shukar DaateyaShukar Daateya
Tera
Shukar DaateyaZindagi Rahi Ae
Zindagi Rahi Ae
Guzar DaateyaShukar Daateya
Tera
Shukar DaateyaShukar Daateya
Tera
Shukar DaateyaAam Rahan Yan
Khaas Hovan
Eh Kade Naa Chahvan Main
Mull Mehnat Da Pai Jaave
Eh Karan Duavaan MainAam Rahan Yan
Khaas Hovan
Eh Kade Naa Chahvan Main
Mull Mehnat Da Pai Jaave
Eh Karan Duavaan MainBus Ena Baksh De Hunar DaateyaShukar Daateya
Tera
Shukar DaateyaShukar Daateya
Tera
Shukar DaateyaKayi
Pairan Ton Nange Firde
Sir Te Labhan Chhavan
Mainu Daata Sab Kujh Ditta
Kyun Na Shukar ManavaanKayi
Pairan Ton Nange Firde
Sir Te Labhan Chhavan
Mainu Daata Sab Kujh Ditta
Kyun Na Shukar ManavaanSaukha…

Tagged : / / / / / /

Bhagat Ke Vash Me Hai Bhagwan Lyrics in Hindi/English – By Anup

This Bhajan “Bhagat Ke Vash Me Hai Bhagwan Lyrics” is specially created for the Bhakts i.e. Devotees of Shri Krishna.

Like in the whole Bhajan there is Bhakt Maa of Krishna who thinks that Lord Krishna is the son of her, and that’s why she loves him as her Child, and take all the Cared of Krishna which is Decribed in the bhajan “Bhagat Ke Vash Me Hai Bhagwan Lyrics”.

About Lord Krishna

Lord Krishna is the another Form i.e. Roop of Lord Vishu and there are many other forms of Lord Krishna.

And Krishna is one of the God in the Trimurti and all thinks that he is a divine source of energy.

Bhajan Credits:

Bhagat Ke Vash Mein Hai Bhagwan Bhajan Credits 
SingerGul Saxena
MusicAmjad Nadeem
LyricsTraditional
Company Zee Music

Bhagat Ke Vash Me Hai Bhagwan Lyrics in Hindi

भगत  के  वश  में  है  भगवान
भक्त  बिना  ये  कुछ  भी  नहीं  है
भक्त  है  इसकी  शान

भगत  मुरली  वाले  की  रोज  बृन्दावन  डोले
कृष्णा  को  लल्ला  समझे, कृष्णा  को  लल्ला  बोले
श्याम  के  प्यार  में  पागल, हुई  वो  श्याम  दीवानी
अगर  भजनो  में  लागे, छोड़  दे  दाना  पानी
प्यार  कारन  वो  लागी  उससे  अपने  पुत्र  समान
भगत  के  वश  में  है  भगवान…

वो  अपने  कृष्णा  लला  को  गले  से  लगा  के  रखे
हमेशा  सजा  कर  रखे  की  लाड  लड़ा  कर  रखे
वो  दिन  में  भाग  के  देखे, की  रात  में  जाग  के  देखे
कभी  अपने  कमरे  से, श्याम  को  झांक  के  देखे
अपनी  जान  से  ज्यादा  रखती  अपने  लला  का  ध्यान
भगत  के  वश  में  है  भगवान…

वो  लल्ला  लल्ला  पुकारे  हाय  क्या  जुल्म  हुआ  रे
बुढ़ापा  बिगड़  गया  जी  लाल  मेरा  कैसे  गिरा  रे
जाओ  डॉक्टर  को  लाओ  लाल  का  हाल  दिखाओ
अगर  इसको  कुछ  हो  गया  मुझे  भी  मार  गिराओ
रोते  रोते  पागल  होगई  घर  वाले  परेशान
भगत  के  वश  में  है  भगवान…

नब्ज  को  टटोल  के  बोले, ये  तेरा  लाल  सही  है
कसम  खा  के  कहता  हूँ  कोई  तकलीफ  नहीं  है
वो  माथा  देख  के  बोले  ये  तेरा  लाल  सही  है
माई  चिंता  मत  करियो  कोई  तकलीफ  नहीं  है

जोहि  सीने  से  लगाया  पसीना  जम  कर  आया
उसने  कई  बार  लगाया  और  डॉक्टर  चकराया
धड़क  रहा  सीना  लल्ला  का, मूर्ति  में  थे  प्राण
भगत  के  वश  में  है  भगवान…

देख  तेरे  लाल  की  माया  बड़ा  घबरा  रहा  हूँ
जहाँ  से  तू  लल्ला  लाई  वही  पे  जा  रहा  हूँ
लाल  तेरा  जुग  जुग  जिए  बड़ा  एहसान  किया  है
आज  से  सारा  जीवन  उसी  के  नाम  किया  है
बनवारी  तेरी  माँ  नहीं  पागल  पागल  सारा  जहाँ
भगत  के  वश  में  है  भगवान…

बोलिए  वृंदावन  बिहारी  लाल की  जय

Bhagat Ke Vash Me Hai Bhagwan Lyrics in English

Bhagat ke vash mein hai bhagavaan
Bhakt bina ye kuchh bhee nahin hai
Bhakt hai isakee shaan

Bhagat muralee vaale kee roj brndaavan dole,
Krishna ko lalla samajhe,
krshna ko lalla bole,
Shyaam ke pyaar mein paagal, huee vo shyaam deevaanee,
Agar bhajano mein laage,
Chhod de daana paanee,
Pyaar kaaran vo laagee usase apane putr samaan,
Bhagat ke vash mein hai bhagavaan…

Vo apane krshna lala ko gale se laga ke rakhe,
Hamesha saja kar rakhe kee laad lada kar rakhe,
Vo din mein bhaag ke dekhe, kee raat mein jaag ke dekhe,
Kabhee apane kamare se, shyaam ko jhaank ke dekhe,
Apanee jaan se jyaada rakhatee apane lala ka dhyaan
Bhagat ke vash mein hai bhagavaan…

Vo lalla lalla pukaare haay kya julm hua re,
Budhaapa bigad gaya jee laal mera kaise gira re,
Jao doktar ko lao laal ka haal dikhao,
Agar isako kuchh ho gaya mujhe bhee maar girao,
Rote rote paagal hogee ghar vaale pareshaan,
Bhagat ke vash mein hai bhagavaan…

Nabj ko tatol ke bole, ye tera laal sahee hai,
Kasam kha ke kahata hoon koee takaleeph nahin hai,
Vo maatha dekh ke bole ye tera laal sahee hai,
Maee chinta mat kariyo koee takaleeph nahin hai,

Johi seene se lagaaya paseena jam kar aaya,
Usane kaee baar lagaaya aur doktar chakaraaya,
Dhadak raha seena lalla ka, moorti mein the praan,
Bhagat ke vash mein hai bhagavaan…

Dekh tere laal kee maaya bada ghabara raha hoon,
Jahaan se too lalla laee vahee pe ja raha hoon,
Laal tera jug jug jie bada ehasaan kiya hai,
Aaj se saara jeevan usee ke naam kiya hai,
Banavaaree teree maan nahin paagal paagal saara jahaan,
Bhagat ke vash mein hai bhagavaan…

Bolie vrndaavan bihaaree laal kee jay

Tagged : / / / /

Daya Kar Daan Bhakti Ka Lyrics in Hindi/English – By Aarti Mukherji

This Bhajan “Daya Kar Daan Bhakti Ka Lyrics” has been Dedicated to all the Gods on the Earth i.e. we as the Human Being will Pray to the God in the whole bhajan “Daya Kar Daan Bhakti Ka”.

Mainly this is used as the Children Prayer in the Schools and many People like this Prayer because in the whole Bhajan there is no description of any Specific Religion.

Also Read: Krishnam Vande Jagadgurum Lyrics

Bhajan Credits:

Daya Kar Daan Bhakti Ka Bhajan Credits 
AlbumShradha
SingerAarti Mukherji, Deepak Chauhan, P. Dinesh Dutt Sharma, P. Shyamveer Raghav, Jagveer Singh
Music LabelSwar Sangam Audio Cassette
LyricistTraditional

दया कर, दान भक्ति का, हमें परमात्मा देना।

दया कर, दान भक्ति का,
हमें परमात्मा देना।
दया करना, हमारी आत्मा को
शुद्धता देना॥

हमारे ध्यान में आओ,
प्रभु आँखों में बस जाओ।
अंधेरे दिल में आकर के
परम ज्योति जगा देना॥

दया कर, दान भक्ति का,
हमें परमात्मा देना।

बहा दो प्रेम की गंगा
दिलो में प्रेम का सागर।
हमें आपस में मिलजुल कर
प्रभु रहना सिखा देना॥

दया कर, दान भक्ति का,
हमें परमात्मा देना

हमारा धर्मं हो सेवा
हमारा कर्म हो सेवा
सदा ईमान हो सेवा
हो सेवकचर बना देना।
(सफल जीवन बना देना)

दया कर दान भक्ति का
हमें परमात्मा देना।

वतन के वास्ते जीना
वतन के वास्ते मरना।
वतन पर जा फ़िदा करना
प्रभु हमको सिखा देना॥

दया कर, दान भक्ति का,
हमें परमात्मा देना

दया करना, हमारी आत्मा
को शुद्धता देना
दया कर, दान भक्ति का,
हमें परमात्मा देना

दया कर, दान भक्ति का,
हमें परमात्मा देना

Daya Kar Daan Bhakti Ka Lyrics

daya kar, daan bhakti ka,  hamen paramatma dena.
daya karana, hamari aatma ko shuddhta dena.

hamaare dhyaan mein aao,  prabhu aankhon mein bas jao.
andhere dil mein aakar ke param jyoti jaga dena.

daya kar, daan bhakti ka, hamen paramatma dena…

baha do prem kee ganga, dilo mein prem ka saagar.
hamen aapas mein milajul kar, prabhu rahana sikha dena.

daya kar, daan bhakti ka, hamen paramatma dena…

hamaara dharman ho seva, hamaara karm ho seva
sada eemaan ho seva, ho sevakachar bana dena.

daya kar, daan bhakti ka, hamen paramatma dena…

vatan ke vaaste jeena, vatan ke vaaste marana.
vatan par ja fida karana, prabhu hamako sikha dena.

daya kar, daan bhakti ka, hamen paramatma dena…

daya karana, hamaaree aatma, ko shuddhata dena
daya kar, daan bhakti ka, hamen paramatma dena

daya kar, daan bhakti ka, hamen paramatma dena…


daya kar, daan bhakti ka,  hamen paramatma dena.
daya karana, hamaaree aatma ko shuddhata dena.

Tagged : / / / / / /

Hey Gopal Krishna Karu Aarti Teri Lyrics in Hindi/English

This Bhajan “Hey, Gopal Krishna Karu Aarti Teri Lyrics” is dedicated to Shri Krishna, like Singer Devoleena Bhattacharjee is saying that she is doing a Aarti of Gopal Krishna.

About Shri Krishna

Krishna is another form of Lord Vishnu, according to Hindu Puran Vishnu is one of the Trimurti God.

And Krishna is the most attractive and clever Avtar of Lord Vishnu which comes on Earth.

Bhajan Credits

Hey, Gopal Krishna Karu Aarti Teri Bhajan Credits 
Producer/SingerDevoleena Bhattacharjee
DirectorVikrant Thakur
Stylist Sugandha Sood
Editor Akshay Gvaal

About Devoleena Bhattacharjee (Singer)

Devoleena Bhattacharjee (born 22 August 1985) is an Indian television actress and a trained Bharatanatyam dancer known for portraying Gopi Modi in the Star Plus drama series Saath Nibhaana Saathiya. In 2019, she participated in Bigg Boss 13 as a contestant.

She has Composed many Popular Bhajan of Shri krishna like Hey, Gopal Krishna Karu Aarti Teri Lyrics.

Hey, Gopal Krishna Karu Aarti Teri Lyrics in Hindi

हे गोपाल कृष्णा करू आरती तेरी,
हे प्रिया पति मई करू आरती तेरी,
तुझपे ओह कान्हा बलि बलि जाो,
सांझ सवेरे तेरे गन गाओ,
प्रेम मई रंगी मई रंगी भक्ति मेी तेरी,
हे गोपाल कृष्णा करू आरती तेरी,
हे प्रिया पति मई करू आरती तेरी,

यह माटी का तंन है तेरा,मॅन और प्राण भी तेरे
मई एक गोपी तुम हो कन्हैया तुम हो भगवान मेरे,
कृष्णा कृष्णा कृष्णा रते आत्मा मेरी,
हे गोपाल कृष्णा करू आरती तेरी,
हे प्रिया पति मई करू आरती तेरी,

ओह कान्हा तेरा रूप अनुपम,
मॅन को हरता जाए,
मान यह चाहे हरपाल अंख्हिया तेरा दर्शन पाए,
दरश तेरा प्रेम तेरा आश् है मेरी,
हे गोपाल कृष्णा करू आरती तेरी,
हे प्रिया पति मई करू आरती तेरी,

हे गोपाल कृष्णा करू आरती तेरी,
हे प्रिया पति मई करू आरती तेरी,
तुझपे ओह कान्हा बलि बलि जाो,
सांझ सवेरे तेरे गन गाओ,
प्रेम मई रंगी मई रंगी भक्ति मेी तेरी,
हे गोपाल कृष्णा करू आरती तेरी,

Hey, Gopal Krishna Karu Aarti Teri Lyrics in English

Hey gopal krishn karu aarti teri
Hey piyapati main karu arti teri

Hey gopal krishn karu aarti teri
Hey priyapati main karun arti teri

Tujh pe o kanha bali bali jaaun
Saanjh savere tere gun gaaun
Prem mein rangee main

Rangee bhakti mein teri
Hey gopal krishna karu aarti teri

Ye maati ka tan hain tera
Mann aur praan bhi tere

Main ek gopi tum ho kanhaiya
Tum ho bhagwan mere
Ohoooo

Ye maati ka tan hain tera
Mann aur praan bhi tere
Main ek gopi tum ho kanhaiya
Tum ho bhagwan mere

krishn krishn krishn rate atma meri
Hey gopal krishna karon aarti teri

Hare krishna hare krishna krishna
krishna hare hare
Hare krishna hare krishna krishna

krishna hare hare
Hare rama hare rama rama rama hare hare
Hare rama hare rama rama rama hare hare

kaanha tera roop anupam
Mann ko harta jaayein
Mann ye chaahein
Harpal ankhiya tera darshan paaye
Ohoooo

kaanha tera roop anupam
Mann ko harta jaayein
Mann ye chaahein
Harpal ankhiyan tera darshan paaye
Darsh tera prem tera aash hain meri

Hey gopal krishna karon aarti teri
Tujh pe o kanha bali bali jaaun
Saanjh savere tere gun gaaun

Prem mein rangee main
Rangee bhakti mein teri

Hey gopal krishna karon aarti teri
Hey priyapati main karun arti teri
Hey gopal krishna karon aarti teri
Hey priyapati main karun arti teri
Ohooo

Tagged : / / / / / /

Mera Bhola Hai Bhandari Lyrics in Hindi/English – Baba Hansraj Raghuwanshi

This Bhajan “Mera Bhola Hai Bhandari Lyrics” is fully and Purely dedicated to Bhole Bhandari, as the whole Bhajan talks about the Bhole Bhandari.

In the Bhajan, Baba Hansraj Raghuwanshi is telling about the Shiv Ji.

About Bhole Bhandari

Bhole Bhandari is the another name of Shiv Shankar, according to hindu Puran, Shivji is one of the Trimurti God.

Also see Saj Rahe Bhole Baba Lyrics 

And the name of Shiv Shankar is Bhole Bhandari because by the Nature he is very kind, and there is not Greedy.

Bhajan Credits

Mera Bhola Hai Bhandari Bhajan Credits 
AlbumDamru Wala
SingerHansraj Raghuwanshi, Suresh Verma
MusicParamjeet Pammi
LyricsSubhash Ranjan & Hansraj Raghuwanshi

Mera Bhola Hai Bhandari Lyrics in Hindi

भोले, भोले, भोले, भोले, भोले, भोले,
भोले,,,,,महादेवा,,,,,,,,,,,,,शिवा l

सबना दा रखवाला, ओ शिवजी,
डमरूयाँ वाला जी, डमरूयाँ वाला,
ऊपर कैलाश रहन्दा, भोले नाथ जी l

धर्मियाँ, जो तारदा शिवजी,
पापियाँ, जो मारदा जी, पापियाँ, जो मारदा,
बड़ा ही दयाल मेरा, भोला अमली l
ॐ नमोः शिवाय शम्भू, ॐ नमोः शिवाय xll

महादेवा,,,, तेरा डमरू डम डम,
डम डम वजता, जाए रे, हो,,,,,
महादेवा,,,,,, हो महादेवा,,,,,,,,,

सर से तेरे, बहती गंगा,
काम मेरा, हो जाता चंगा,
नाम तेरा जब लेता, ता,,,ता,,,,  
महदेवा,,,,,,,,,शम्भू,,,,,,,,

माँपिया दे घरे ओ गौरां,
महलां च रहन्दी जी, महलां च रहन्दी,
विच श्मशाना रहन्दा, भोले नाथ जी ll

कालियाँ कुण्डलां वाला, मेरा भोले बाबा,
किधर कैलाशां तेरा, डेरा ओ जी l
सर पे तेरे ओ गंगा, मैया विराजे,
मुकट पे चंदा, मामा ओ जी l

भंग जे पींदा, ओ शिवजी,
धूने रमांदा जी,,,, धूने रमांदा,
बड़ा ही तपारी मेरा, भोले अमली ll

ओ मेरा भोला है भंडारी, करदा नंदी की सवारी,
भोले नाथ रे, ओ शंकर नाथ रे l
ओ मेरा भोला है भंडारी, करे नंदी की सवारी,
शम्भु नाथ रे, हो शंकर नाथ रे l

ओ गौरां भंग, रगड़ के बोली,
तेरे साथ है, भूतों की टोली,
मेरे नाथ रे, ओ शम्भु नाथ रे,,, l

ओ भोले बाबा जी,
दर पे मैं, आया जी,
झोली ख़ाली, लाया जी,
खाली झोली, भरदे जी l

कालियाँ सर्पां वाला, ओ मेरे भोले बाबा,
शिखर कैलाशां विच, रहन्दा ओ जी ll
अपलोडर- अनिल रामूर्ति भोपाल

Mera Bhola Hai Bhandari Lyrics in English

Bhole Bhole Bhole Bhole Bhole
O Deva Shambhu

Sabna Da Rakhwala O Shivji
Damroa Wala Damrua Wala
Uppar Kailash Rehnda

Bhole Nath Jee Shambhu
Dharmiyo Jo Tarde Shivji
Paapiya Jo Marda
Bada Hi Dayal Mera Bhole Amli
Om Namaha Shivay Shambhu
Om Namaha Shivay Shambhu

Mahadeva Tera Damroo
Dum Dum Bajda Jaye Re Ho
Mahadeva Mahadeva Shambhu
Om Namaha Shivay Shambhu
Om Namaha Shivay Shambhu

Sar Se Teri Behta Ganga
Kaam Mera Ho Jata Changa
Naam Tera Jab Leta Leta
Mahadeva Mahadeva Shambhu
Shambhu Jai Shankar
Maa Piya De Ghare

O Gora Mehla Cha Rehndi
Jee Mehla Cha Rehndi
Vich Samshaana Rehnda Bhole Nath Jee
Kaliya Nag Kundala Waleya
Mera Bhole Baba
Kinr Kailasha Tera Dera O Jee

Sar Pe Ganga O Ganga Maiya Viraje
Mukut Pe Chanda Mama O Jee
Om Namah Shivaye
Om Namah Shivaye Shambhu
Om Namah Shivaye

Bhang Je Peeta O Shivji Dhune Ramanda
Dhuni Ramanda Jee Dhuni Ramanda
Bada Tapdaye O Mera Bhole Amali
Mera Bhola Hai Bhandari
Karta Nandi Ki Sawari

Bhole Nath Re Shankar Nath Re
Mera Bhola Hai Bhandari
Kare Nandi Ki Sawari
Shambhu Nath Re
O Shankar Nath Re

Gaura Bhang Ragad Ke Boli
Tera Sath Re Bhooto Ki Toli
O Shambhu Nath Re O Shankar Nath Re..

Tagged : / / / /

He Sharde Maa Lyrics in Hindi/English – by Pamela Jain

This Bhajan “He Sharde Maa Lyrics” is especially Dedicated to the Mata in Hinduism, and this Bhajan is majorly used as the Prayer in Schools.

And this Bhajan become the Popular Bhajan which is Composed by Pamela Jain, “Sharde Maa” is also a sensation as well as Motivation for all the People.

Bhajan Credits:

He Sharde Maa Bhajan Credits 
Album Sarswati Vandana Prarthna
SingerPamela Jain
MusicM.S.Rawat- Rajesh
Label Brijwani Cassettes

He Sharde Maa Lyrics in Hindi

हे शारदे माँ, हे शारदे माँ
हे शारदे माँ, हे शारदे माँ
अज्ञानता से हमें तारदे माँ

हे शारदे माँ, हे शारदे माँ
हे शारदे माँ, हे शारदे माँ
अज्ञानता से हमें तारदे माँ
हे शारदे माँ..

तू स्वर की देवी, ये संगीत तुझसे
हर शब्द तेरा है, हर गीत तुझसे

हम है अकेले, हम है अधूरे
तेरी शरण हम, हमें प्यार दे माँ

हे शारदे माँ, हे शारदे माँ
अज्ञानता से हमें तारदे माँ

मुनियों ने समझी, गुनियों ने जानी
वेदोंकी भाषा, पुराणों की बानी

हम भी तो समझे, हम भी तो जाने
विद्या का हमको अधिकार दे माँ

हे शारदे माँ, हे शारदे माँ
अज्ञानता से हमें तारदे माँ

तू श्वेतवर्णी, कमल पर विराजे
हाथों में वीणा, मुकुट सर पे साजे

मनसे हमारे मिटाके अँधेरे,
हमको उजालों का संसार दे माँ

हे शारदे माँ, हे शारदे माँ
अज्ञानता से हमें तारदे माँ

हे शारदे माँ, हे शारदे माँ
अज्ञानता से हमें तारदे माँ

हे शारदे माँ, हे शारदे माँ
हे शारदे माँ, हे शारदे माँ

He Sharde Maa Lyrics in English

Hey Sharde Maa
Hey Sharde maa, Hey Sharde maa,

Aghyanta se hume taar de maa,
Tu swar ki devi, ye sangit tujhse,
Har shabd tera maa har geet tujhse,
Hum hai akele hum hai adhure,
Teri sharan mei hume pyaar de maa,
Hey Sharde maa, Hey Sharde maa,
Aghyanta se hume taar de maa,
Muniyo ne samjhi maa guniyo ne jaani,
Vedo ki bhasa puraano ki vaani,
Hum bhi toh samjhe hum bhi toh jaane,
Vidya ka humko adhikaar de maa,
Hey Sharde maa, Hey Sharde maa,
Aghyanta se hume taar de maa,

Tu swet varni kamal pe viraaje,
Haantho mei bina mukut sir pe saaje,
Mann se mitado gum ke andhere,
Ujaalo ka humko sansaar de maa,
Hey Sharde maa, Hey Sharde maa,
Aghyanta se hume taar de maa,
Hey Sharde maa, Hey Sharde maa,
Aghyanta se hume taar de maa,
Tu swar ki devi, ye sangit tujhse,
Har shabd tera maa har geet tujhse,
Hum hai akele hum hai adhure,
Teri sharan mei hume pyaar de maa,
Hey Sharde maa, Hey Sharde maa,
Aghyanta se hume taar de maa,

Tagged : / / / / / / / / / /